Tag Archives: Mayawati

24th September in Dalit History – Poona Pact


Poona Pact, Agreed to by Leaders of Caste-Hindus and of Dalits, at Poona on 24-9-1932

The following is the text of the agreement arrived at between leaders acting on behalf of the Depressed Classes and of the rest of the community, regarding the representation of the Depressed Classes in the legislatures and certain other matters affecting their welfare

1. There shall be seats reserved for the Depressed Classes out of general electorate seats in the provincial legislatures as follows: –

Madras 30; Bombay with Sind 25; Punjab 8; Bihar and Orissa 18; Central Provinces 20; Assam 7; Bengal 30; United Provinces 20. Total 148. These figures are based on the Prime Minister’s (British) decision.

2. Election to these seats shall be by joint electorates subject, however, to the following procedure –

All members of the Depressed Classes registered in the general elec- toral roll of a constituency will form an electoral college which will elect a panel of tour candidates belonging to the Deparessed Classes for each of such reserved seats by the method of the single vote and four persons getting the highest number of votes in such primary elections shall be the candidates for election by the general electorate.

3. The representation of the Depressed Classes in the Central Legislature shall likewise be on the principle of joint electorates and reserved seats by the method of primary election in the manner provided for in clause above for their representation in the provincial legislatures.

Dr. Ambedkar at the Round Table Conference

Dr. Ambedkar at the Round Table Conference

CENTRAL LEGISLATURE

4. In the Central Legislature 18 per cent of the seats allotted to the general electorate for British India in the said legislature shall he reserved for the Depressed Classes.

5. The system of primary election to a panel of candidates for election to the Central and Provincial Legislatures as i herein-before mentioned shall come to an end after the first ten years, unless terminated sooner by mutual agreement under the provision of clause 6 below.

6. The system of representation of Depressed Classes by reserved seats in the Provincial and Central Legislatures as provided for in clauses (1) and (4) shall continue until determined otherwise by mutual agreement between the communities concerned in this settlement.

7. The Franchise for the Central and Provincial Legislatures of the Depressed Classes shall be as indicated, in the Lothian Committee Report.

8. There shall be no disabilities attached to any one on the ground of his being a member of the Depressed Classes in regard to any election to local bodies or appointment to the public services. Every endeavour shall be made to secure a fair representation of the Depressed Classes in these respects, subject to such educational qualifications as may be laid down for appointment to the Public Services.

(Adult franchise but reservation has been provided for Dalits on population basis, till 1960),

9. In every province out of the educational grant an adequate sum shall be ear-marked for providing educational facilities to the members of Depressed Classes,

Source – Ambedkar.org

Advertisements

1 Comment

Filed under Buddha, Caste Discrimination, Dalit-Bahujans, Equal Rights, Today in Dalit History, Today in History

Behan Mayawati – The Iron Lady


Leave a comment

Filed under BSP, Documentary, Dr B R Ambedkar, Latest, Saheb Kanshi Ram

[In Hindi] PDF Book – Behan Mayawati’s Interviews by Satnam Singh


This ebook has been sent by BAMCEF Chandigarh to share with everyone. We really appreciate the efforts BAMCEF is making to awaken Dalit-Bahujans. In case you also have anything to share with us, please email us at drambedkarcaravan@gmail.com

Thank you.

Download books by Dr. Ambedkar from here and download these following book also –

Check also – 15 books every Dalit must read

[gview file=”http://ambedkarcaravan.com/wp-content/uploads/2015/07/Bahen-Mayawati-Interviews.pdf” save=”1″]

Also Check – [In Hindi] PDF Book – Bahujan Nayak Manyavar Kanshiram by Sh Satnam Singh

Leave a comment

Filed under Behan Mayawati, Books, BSP, Dr B R Ambedkar, Latest, Saheb Kanshi Ram

A reply to those who say BSP doesn’t work for Dalits


A reply to those who say BSP doesn’t work for Dalits

Name any state, where you can find 3 direction signs and all named after Dalit-Bahujan Ideals? Or name any government that has worked for Dalits and have given this much importance to Dalit-Bahujan ideals? You won’t find it anywhere but in Uttar Pradesh or you won’t find any government that has given importance and credit to Dalit heroes. So, if today if you can see this sign direction named after Dalit-bahujan heroes all this has become possible because of the work and dedication of Saheb Kanshi Ram, Behan Mayawati and BSP towards Dalit-Bahujans.

If you have not read the achievements of BSP and 100 reasons to vote for BSP, read it from here.

11659441_1624383704499685_2863770251846376283_n

Leave a comment

Filed under Behan Mayawati, BSP, Dalit History, Dr B R Ambedkar, Latest, Saheb Kanshi Ram, Today in Dalit History

कांशीराम: राजनीति का बेमिसाल रसायनशास्त्री


भारतीय राजनीति में ऐसा पहले कभी नहीं हुआ. और दूसरी बार ऐसा कब होगा, यह सवाल भविष्य के गर्भ में है. लगभग 50 साल की उम्र में एक व्यक्ति, वर्ष 1984 में एक पार्टी का गठन करता है. और देखते ही देखते देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश, जहां से लोकसभा की 85 सीटें थीं, में इस पार्टी की मुख्यमंत्री शपथ लेती है. यह पार्टी पहले राष्ट्रीय पार्टी और फिर वोट प्रतिशत के हिसाब से देश की तीसरी सबसे बड़ी पार्टी बन जाती है. और जिस व्यक्ति ने इस पार्टी का गठन किया, वह बेहद साधारण परिवार से संबंधित था. उस समुदाय से, जिसे पढ़ने-लिखने का हक नहीं था और जिन्हें छूने की शास्त्रों में मनाही है. यह चमत्कार कितना बड़ा है, इसे समझने के लिए बीजेपी (जनसंघ) और कांग्रेस जैसी मुकाबले की दूसरी पार्टियों को देखें, जिनकी लंबी-चौड़ी विरासत है और जिन्हें समाज के समृद्ध और समर्थ लोगों का साथ मिला.

सरकारी कर्मचारी पद से इस्तीफा दे चुके इस व्यक्ति के पास संसाधन के नाम पर कुछ भी नहीं था. न कोई कॉर्पोरेट समर्थन, न कोई और ताकत, न मीडिया, न कोई मजबूत विरासत. सिर्फ विचारों की ताकत, संगठन क्षमता और विचारों को वास्तविकता में बदलने की जिद के दम पर इस व्यक्ति ने दो दशक से भी ज्यादा समय तक भारतीय राजनीति को कई बार निर्णायक रूप से प्रभावित किया. दुनिया उन्हें कांशीराम के नाम से जानती है. समर्थक उन्हें मान्यवर नाम से पुकारते थे.

Kanshi Ram Ji

कांशीराम ने जब अपनी सामाजिक-राजनीतिक यात्रा शुरू की, तो उनके पास पूंजी के तौर पर सिर्फ एक विचार था. यह विचार भारत को सही मायने में सामाजिक लोकतंत्र बनाने का विचार था, जिसमें अधिकतम लोगों की राजकाज में अधिकतम भागीदारी का सपना सन्निहित था. कांशीराम अपने भाषणों में लगातार बताते थे कि वे मुख्य रूप से संविधान ड्राफ्टिंग कमेटी के चेयरमैन बाबा साहब भीमराव आंबेडकर और उनके साथ क्रांतिकारी विचारक ज्योतिराव फुले के विचारों से प्रभावित रहे. 1980 में लखनऊ में एक सभा में उन्होंने कहा था कि “अगर इस देश में फुले पैदा न होते, तो बाबा साहब को अपना कार्य आरंभ करने में बहुत कठिनाई होती.” कांशीराम ने बहुजन का विचार भी फुले की ‘शुद्रादिअतिशूद्र’ (ओबीसी और एससी) की अवधारणा का विस्तार करके ही हासिल किया. कांशीराम के बहुजन का अर्थ देश की तमाम वंचित जातियां और अल्पसंख्यक हैं, जिनका आबादी में 85% का हिस्सा है. कांशीराम मानते थे देश की इस विशाल आबादी को राजकाज अपने हाथ में लेना चाहिए. इसे वे सामाजिक लोकतंत्र की स्थापना और देश के विकास के लिए अनिवार्य मानते थे. इसके लिए वे सामाजिक वंचितों के आर्थिक सबलीकरण के भी प्रबल पक्षधर रहे.

इस विचार को मूर्त रूप देने के लिए कांशीराम ने अपना ध्यान सबसे पहले इन जातियों के सरकारी कर्मचारियों पर केंद्रित किया. वे मानते थे कि ये लोग राजनीतिक गतिविधियों में बेशक हिस्सा नहीं ले सकते. लेकिन बुद्धिजीवी होने के कारण, समाज को बौद्धिक नेतृत्व और आर्थिक संबल देने में यह तबका सक्षम है. आजादी के बाद से आरक्षण लागू होने के कारण उस समय तक मोटे अनुमान के मुताबिक इन जातियों के 20 लाख से ज्यादा सरकारी कर्मचारी थी. कांशीराम ने 1978 में सरकारी कर्मचारियों का संगठन बामसेफ यानी बैकवर्ड (एससी/एसटी/ओबीसी) एंड मायनॉरिटी कम्युनिटीज इंप्लाइज फेडरेशन का गठन किया और देखते ही देखते लाखों लोग इससे जुड़ गए. कांशीराम ने कर्मचारियों को ‘पे बैक टू सोसायटी’ की अवधारणा से अवगत कराया. इसकी वजह से उन्हें हजारों समर्पित कार्यकर्ता मिले और संगठन चलाने के लिए धन भी.

बामसेफ ने 1980 में एक महत्वपूर्ण कार्यक्रम के तहत 9 राज्यों के 34 स्थानों पर चलता-फिरता आंबेडकर मेला सफलतापूर्व आयोजित कर स्थापित कर दिया कि कांशीराम जो सपना देख रहे हैं, उसे आगे बढ़ाने का रास्ता खुल चुका है. इसके बाद पहले राजनीतिक संगठन के रूप में कांशीराम 1981 में डीएस-4 यानी दलित शोषित समाज संघर्ष समिति का गठन करते हैं और 1984 में बीएसपी यानी बहुजन समाज पार्टी की स्थापना होती है. कांशीराम के सबसे महत्वपूर्ण राजनीतिक अभियानों में उनकी 3000 किलोमीटर की साइकिल यात्रा उल्लेखनीय है, जिस दौरान वे हजारों लोगों से सीधे मिले और लाखों लोगों तक अपनी बात पहुंचाई. इसके बाद कांशीराम के 2004 में सेहत खराब होने तक तक बीएसपी जो राजनीतिक सफर तय करती है, वह समकालीन इतिहास का महत्वपूर्ण अध्याय है.

बाबासाहब की तरह कांशीराम भी बौद्ध धर्म स्वीकार करना चाहते थे. इसके लिए उन्होंने 2006 में अक्टूबर महीने की तारीख भी तय कर ली थी. लेकिन इससे पहले उनका स्वास्थ्य लगातार बिगड़ता चला गया और 9 अक्टूबर, 2006 को उनका निधन हो गया. उनका शवदाह बौद्ध विधि से दिल्ली में हुआ.

कांशीराम की राजनीतिक विरासत पर विचार करते हुए इस बात का ध्यान रखा जाना चाहिए कि वे भारतीय राजनीति के पहले शख्स हैं, जिन्होंने दलितों को शासक बनने का न सिर्फ सपना दिखाय़ा, बल्कि उसे साकार करने का रास्ता भी बताया. राजनीतिक उद्देश्यों के लिए साधन की पवित्रता के हिमायती वे कभी नहीं रहे. राजनीतिक समझौतों की सवारी करते हुए अपनी विचारधारा की राजनीति को लगातार नई ऊंचाइयों तक ले जाते रहे. उन्होंने पवित्रतावाद की जगह, अवसर को सिद्धांत में तब्दील कर दिया. बीएसपी की सफलता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि एक समय में देश का हर सोलहवां वोटर इस पार्टी के हाथी निशान पर बटन दबा रहा था. अपनी राजनीति को कामयाबी तक पहुंचाने की दिशा में कांशीराम को मिली सफलताओ ने उनके व्यक्तित्व को वह चमक दी, जिसकी कोई भी राजनेता सिर्फ कामना ही कर सकता है.

– दिलीप मंडल

2 Comments

Filed under BSP, Dalit-Bahujans, Dr B R Ambedkar, Equal Rights

What Birsa Munda Said


Birsa Munda

Birsa Munda

Birsa says, give up drinking rice-beer and liquor.
For this reason our land drifts away.
Drunkenness and sleep are no good.
The enemies laugh at us.
The beer distilled from fermented rice stinks.
A person’s body and spirit too decay likewise.

Check also –

Leave a comment

Filed under Dalit-Bahujans, Dr B R Ambedkar, Equal Rights

What Saheb Kanshi Ram Ji Said


1535044_790246597733094_2908247354132610431_n (1)

Read also – The Chamcha Age – by Saheb Kanshi Ram

10013290_1618383168391452_3513877448404183098_n

Check Wallpapers from here – 15th March in Dalit History – Saheb Kanshi Ram Ji’s Birth Anniversary

10428522_786194478138306_836514373576930143_n

Read also – What BSP and Kanshi Ram have done to the Untouchables

10983182_10153148347559464_1990623495904291472_n

Watch – Documentary on Saheb Kanshi Ram Ji

11006444_785054104919010_1313720631867638911_n

Check also – 

11038645_789619334462487_8967003613419715110_n

11053463_787914251299662_2116581968502229066_n

11054344_789071134517307_315513867797076821_n

Continue reading

3 Comments

Filed under BSP, Dr B R Ambedkar, Today in Dalit History, Today in History

15th March in Dalit History – Saheb Kanshi Ram Ji’s Birth Anniversary


Bday

Check also – 

85

Watch – Documentary on Saheb Kanshi Ram Ji

Best wishes

Read also – What BSP and Kanshi Ram have done to the Untouchables

Brahminism

Read also – The Chamcha Age – by Saheb Kanshi Ram

caste po

caste

casteless

chutti

Gandhi ke

How to run

I don't talk

Continue reading

5 Comments

Filed under BSP, Dr B R Ambedkar, Today in Dalit History, Today in History