Tag Archives: Remembering Mata Ramabai Ambedkar

Remembering Mata Ramabai Ambedkar


रमाबाई अम्बेडकर

जालिमों से लड़ती भीम की रमाबाई थी
मजलूमों को बढ़ के जो,आँचल उढ़ाई थी
जाति धर्म चक्की में पिसते अवाम को
दलदल में डूबते समाज को बचाई थी

एक-एक पैसे से,भीम को पढ़ाई थी
मेहनत मजदूरी से जो भी जुटाई थीं
गोबर इकट्ठा बना कण्डी के उपले
बज़ारों में बेच कैसे घर को चलाई थी

अमेरिका से लंदन,बैरिस्टर से डाक्टर
हौसला हर मोड़ पर रमाई बढ़ाई थी
भूखे पेट बच्चे कुपोषित ही मर गये
जब रोटी न पैसा न घर में दवाई थी

तड़पते मरते गये गोद में यूं लाल सभी
खुशी की उम्मीदों संग कैसी जुदाई थी
भूखी प्यासी वो बीमार कई रात रही
माँ ने लोगों के लिये खुद को मिटाई थी

रमा की आँसू में भीम विदेशों में बहते थे
मगर इस तूफान में भी कश्ती चलाई थी
विद्वान हो महान भीम रामू न भूल सके
तन और मन से जो उनकी सगाई थी

खून व पसीने से सींचती थी क्यारियाँ
हँसते चमन की कली जो मुरझाई थी
एक तरफ फूले सावित्री थे साथ लड़े
“बागी” भीम साथ वैसे मेरी रमाई थी.

AoE3cvtspcy7XyNpA1SN1E9jHSpplV6IQqugItPP0SgO

Read also – 26th May (1935) in Dalit History – Death anniversary of Mata Ramabai Ambedkar

आज हमारी महिलाओ (चाहे वे किसी भी धर्म या जाति समुदाय से हो) को उन पर गर्व होना चाहिए कि किन परिस्थितियों में उन्होंने बाबा साहेब का मनोबल बडाये रखा और उनका साथ देती रही। खुद अपना जीवन कष्ट में बिताये रखा और बाबा साहेब की मदद करती रही।
आज अगर भारत की महिलाए आज़ाद है तो उसका श्रेय सिर्फ और सिर्फ माता रमाबाई को जाता है।

हमारा फ़र्ज़ है उनको जानने का।

Watch – 

12243237_167775640265604_1167030677643037414_n

3 Comments

Filed under Dalit, Dalit History, Dr B R Ambedkar, Mata Ramabai Ambedkar, Poems, Today in Dalit History