Category Archives: Poems

Poem on Mahad Satyagraha


Mahad Satyagraha Haat

In the motionless alleys

Outside the village gates

You came and thundered

Everyone started

Brushed of the dust and woke up

You walked forward

Holding flaming urn

All the merchants of darkness were fear struck

You kept on walking

With everyone following

You stopped at the bank of the pond

And gave us life …

~~

‘Haat’ in Marathi means ‘hands’.

Poem is written by Arjun Dangle, one of the founding members of the Dalit Panther Party.

Check also – 

Dr Ambedkar Mahad Satyagraha

1 Comment

Filed under Caste Discrimination, Casteism, Dalit, Dr B R Ambedkar, Equal Rights, Poems

Hum Ladenge Sathi: A protest song-video on #RohithVemula and #StandWithJNU


Poetry: Avtar Singh Paash
Composition: Ravinder Randhawa
Song from ‘Aaj Ke Naam’, a music album by Majma

Leave a comment

February 28, 2016 · 11:05 am

We Know How to Peal the Skin Of The Cow! #EatBeef


Started Freedom Struggle!

Heroes! Get Ready for the Battle

Train More Heroes and Heroines and Settle

With a Determination to Share Power to Rule!

Without the Freedom of the Untouchables

There won’t be Freedom of the Touchable

Without the Freedom of the Touchable

There Wont be Freedom of the Majority People

Without the Freedom of the Majority People

There Wont be National Freedom for All People

You were always in the Receiving End

Now move to the Delivering End

To Get Rid of Our Sufferings for ever

Come Lets Share Power!

You were for ringing the Temple Bells

We were for Carrying Night Soil

By using our Wisdom and Will

Lets Forget Superstition Evil

Temple Bell and Carrying Night Soil

And All of Us Become Equal

Continue reading

Leave a comment

Filed under Caste Discrimination, Casteism, Dalit, Dr B R Ambedkar, Poems

Remembering Mata Ramabai Ambedkar


रमाबाई अम्बेडकर

जालिमों से लड़ती भीम की रमाबाई थी
मजलूमों को बढ़ के जो,आँचल उढ़ाई थी
जाति धर्म चक्की में पिसते अवाम को
दलदल में डूबते समाज को बचाई थी

एक-एक पैसे से,भीम को पढ़ाई थी
मेहनत मजदूरी से जो भी जुटाई थीं
गोबर इकट्ठा बना कण्डी के उपले
बज़ारों में बेच कैसे घर को चलाई थी

अमेरिका से लंदन,बैरिस्टर से डाक्टर
हौसला हर मोड़ पर रमाई बढ़ाई थी
भूखे पेट बच्चे कुपोषित ही मर गये
जब रोटी न पैसा न घर में दवाई थी

तड़पते मरते गये गोद में यूं लाल सभी
खुशी की उम्मीदों संग कैसी जुदाई थी
भूखी प्यासी वो बीमार कई रात रही
माँ ने लोगों के लिये खुद को मिटाई थी

रमा की आँसू में भीम विदेशों में बहते थे
मगर इस तूफान में भी कश्ती चलाई थी
विद्वान हो महान भीम रामू न भूल सके
तन और मन से जो उनकी सगाई थी

खून व पसीने से सींचती थी क्यारियाँ
हँसते चमन की कली जो मुरझाई थी
एक तरफ फूले सावित्री थे साथ लड़े
“बागी” भीम साथ वैसे मेरी रमाई थी.

AoE3cvtspcy7XyNpA1SN1E9jHSpplV6IQqugItPP0SgO

Read also – 26th May (1935) in Dalit History – Death anniversary of Mata Ramabai Ambedkar

आज हमारी महिलाओ (चाहे वे किसी भी धर्म या जाति समुदाय से हो) को उन पर गर्व होना चाहिए कि किन परिस्थितियों में उन्होंने बाबा साहेब का मनोबल बडाये रखा और उनका साथ देती रही। खुद अपना जीवन कष्ट में बिताये रखा और बाबा साहेब की मदद करती रही।
आज अगर भारत की महिलाए आज़ाद है तो उसका श्रेय सिर्फ और सिर्फ माता रमाबाई को जाता है।

हमारा फ़र्ज़ है उनको जानने का।

Watch – 

12243237_167775640265604_1167030677643037414_n

3 Comments

Filed under Dalit, Dalit History, Dr B R Ambedkar, Mata Ramabai Ambedkar, Poems, Today in Dalit History