For those who are celebrating Diwali


आओ मिलकर दीवाली मनाए
फिर से शुद्र, अछुत बन जाए
फिर से भंगी चमार हो जाए
फिर से जानवर से बदतर हो जाए
आओ फिर से दीवाला निकलवाए
पैसो मे फिर आग लगाए
आओ मिलकर दीवाली मनाए
पैसे हमारे घरो मे है नही
फिर भी लक्ष्मी की पूजा करवाए
भूल गये हम मांं बाप को
भूखे प्यासे या ज़िंदे भी है
देवताओ को हम भोग लगाए
आओ मिलकर दीवाली मनाए
अधिकार दिए बाबा साहेब ने
सम्मान दिलाया बाबा साहेब ने
शिक्षा दिलवाई बाबा साहेब ने
ज़िंदगी दी बाबा साहेब ने
पर इस सब से हमे क्या मतलब
हम तो इंसान नही जानवर है
आओ बाबा साहेब को भूल जाए
आओ मिलकर दीवाली मनाए.

दीवाली ख्तम हो गया, चलो अब सब दलित झाड़ू उठा लो. तुम तब तक ही हिंदू हो जब तक ब्राह्मण खुश रहे. दीवाली हो गयी, तुम ने दान दे दिया, चलो अब झाड़ू उठा लो.

Advertisements

Leave a comment

Filed under Caste Discrimination, Dr B R Ambedkar

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.